Allgazabposts
allgazabposts.com-benefits-of-amla3

आंवले में है बड़े-बड़े गुण।

आंवला सदियों से हमारे आयुर्वेद में औषधि के रूप में प्रचलित है, ये एक ऐसा फल है जो हमारे पूरे शरीर के लिए लाभदायक है। आइये आज हम आंवले के ही बारे में आपको कुछ जानकारी देते है:

allgazabposts.com-benefits-of-amla2

Image Source

  • आंवले खाने से दांत और मसूड़े दोनों मजबूत होते है, ये आँखों की रोशनी के लिए भी बहुत लाभदायक है।
  • आंवला विटामिन “सी” से भरपूर होता है इसलिए ये त्वचा, बाल, लीवर और किडनी के लिए भी लाभदायक है।
  • आंवले से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है साथ ही इसमें पाए जाने वाला एंटीऑक्सीडेंट बुढ़ापे को रोकने में सहायक होते है।
  • अर्थिरिटिस और ह्रदय सम्बन्धी रोगों में भी आंवला बहुत लाभदायक होता है।
  • वैसे तो कोई भी विटामिन “सी” के फल (संतरा, मौसम्बी आदि) के रस को उबालने पर उसमें मौजूद विटामिन सी नष्ट हो जाता है, लेकिन आंवला एक ऐसा फल है जिसका रस उबालने पर भी उसके तत्व बने रहते है।
  • आंवला शरीर की ताकत को बढ़ाता है साथ ही ये खून को भी साफ़ करता है, इसके कारण ये पिम्पल, रिंकल्स (झुर्रियां), आदि को कम करने में लाभदायक होता है।
  • पेट में गर्मी हो जाने या फिर पित्त और वाद होने पर भी आंवले का सेवन करना लाभप्रद होता है, लेकिन इसकी मात्रा का विशेष ध्यान रखना चाहिए।
  • पेट में गैस होने पर या छाले होने पर भी आंवले का सेवन करने से आराम मिल सकता है।
  • पेट में गैस होने पर या छाले होने पर भी आंवले का सेवन करने से आराम मिल सकता है।
  • आंवले में कई पौष्टिक तत्व जैसे कैल्शियम, विटामिन सी, आयरन, गैलिक एसिड, सक्सिनिक एसिड आदि भी पाए जाते है, जो शरीर को चुस्त और तंदुरुस्त बनाये रखने में लाभदायक है।
  • कफ, खांसी और गले सम्बंधित रोग होने पर आंवले का सेवन कफ और सर्दी में आराम देने में सहायक होता है।
  • आंवले का सेवन स्मरण शक्ति को भी बढ़ाता है, इसलिए ही इसका उपयोग च्यवनप्राश बनाने में भी किया जाता है।
  • आंवले पेशाब में आयी रुकावट को दूर करता है, साथ ही शरीर में मौजूद यूरिक एसिड और अन्य टॉक्सिन्स को भी मूत्रमार्ग से शरीर से बाहर करने में सहायक होता है।

Vijaya Jain

विजया वैसे तो एक पोस्ट ग्रेजुएट इंजीनियर और शिक्षक है, लेकिन लेखन के प्रति अपने रुझान के चलते इन्होंने अपने आप को लेखक के रूप में देखना ज्यादा पसंद किया। अपनी पढ़ाई के समय से ही ये लेखन क्षेत्र में सक्रिय थी। इनके लेख कई मैगज़ीन और वेबसाइट पर प्रकाशित हुए है। लेखन के साथ इन्हें पढ़ना - पढ़ाना और कुकिंग में भी रुचि है।

Add comment

Categories

Ad

Ad

Your Header Sidebar area is currently empty. Hurry up and add some widgets.