Allgazabposts

जाने कैसे एक बच्चा के हो सकते हैं, तीन पिता

क्या आपने कभी ऐसा सुना हैं, कि एक बच्चे के तीन पिता हैं। यह सुनने में जीतना अजीब लगता है असल दुनिया में अगर ऐसा हो तो आप उसे क्या कहेगें। लेकिन आज हम जिस बच्चे से आपको मिलाने वाले हैं, उस बच्चे के जीवन का यह एक ऐसा सच्च हैं, जिसके साथ अब उसे पूरे जीवन भर जीना पड़ेगा। जी हां, इस बच्चे के तीन पिता है और ऐसा हम नहीं कह रहे है यह कहना हैं, ग्राम पंचायत के बनाए हुए जन्म प्रमाण पत्र का।

यह बच्चा मध्य प्रदेश के डिंडौरी नामक क्षेत्र में स्थित निगबानी गांव का हैं। यह बच्चा 5वी कक्षा में पढ़ा हैं, लेकिन जब से यह सच्चाई सामने आई है तब से उसकी पढ़ाई भी खतरें में आ गई हैं। लेकिन इस बच्चें के जीवन को इस तरह के संकट में ढालने वाला यह कार्य ग्राम पंचायत ने किया है ग्राम पंचायत की एक छोटी सी लापरवाही के कारण आज इस बच्चे का पूरा जीवन ही बदल गया हैं।

असल में यह पूरी समस्या ग्राम पंचायत के द्वारा बनाए गए जन्म प्रमाण पत्र के कारण खड़ी हुई है। ग्राम पंचायत ने बच्चे के इस जन्म प्रमाण पत्र पर तीन पिताओं के नाम लिख दिए हैं और इसी वजह से अब इस बच्चे का किसी भी स्कूल में दाखिला नहीं हो पा रहा है। इतना ही नहीं इस बच्चे की मां के साथ बहुत समय पहले गैंग रेप भी हुआ था जिसके लिए उसे कोई न्याय नहीं मिला लेकिन उस अन्याय को आज उसका बेटा भुगत रहा है। इस पूरे मामले का खुलासा उस समय हुआ जब यह बच्चा 6वीं कक्षा के लिए प्रवेश लेने गया।

इतना ही नहीं हद तो तब हो गई जब ग्राम पंचायत के पास यह मामला पहुंचा तो उन्हें अपनी गलती सुधारने के स्थान पर स्कूल पर ही बच्चे को दाखिला देने का दबाव डालने लगें। अगर स्कूल बच्चे को दाखिला दे भी देता हैं, तो बच्चे की पढ़ाई करने की इच्छा तो पूरी हो जाएगी लेकिन क्या यह उसके साथ पूरा न्याय होगा। आने वाले जीवन में जब उसे इस समस्या का दुबारा सामना करना पड़ेगा तो तब क्या होगा। इस सवाल का जवाब वैसे तो अभी ना ही उस मां के पास हैं, और ना ही इस लापरवाह व्यवस्था के पास है।

Upasana Bhatt

मुझे लिखना बहुत पसंद हैं, और मेरे विचार व मेरी सोच मेरी कलम से निकले शब्दों के माध्यम से प्रकट होते है। अब तक में फिल्म, राजनीति और अपराध जगत से संबंधित बहुत से विषयों पर लिख चुकी हूँ।

Add comment

Categories

Ad

Ad

Your Header Sidebar area is currently empty. Hurry up and add some widgets.